सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

क्या जमात से तरावीह पढ़ना बिद्दत ए हसना है?

ro   
अब्दुर रहमान बिन अब्दुल कारी र.अ. कहते हैं कि मैं एक बार रमादान की रात उमर र.अ. के साथ मस्जिद आया और पाया कि लोग अलग-अलग जमात में पढ़ रहे हैं। एक आदमी अकेला पढ़ रहा है और एक आदमी छोटे से जमात में उसके पीछे पढ़ रहा है। तो उमर र.अ. ने कहा कि मेरे राए में ये बेहतर होगा कि एक कारी की इमामत में सब को जमा करदु। तोह उनकहोंने सबको उबै बिन का'ब के पीछे जमा करने का अपना मन बनाया। फ़िर दूसरी रात मैंने उन के साथ फिर गया और (देखा की) लोग क़िरात करने वाले के पीछे पढ़ रहे हैं। और इसपर उमर र.अ. ने कहा, "ये एक अच्छी बिद्दत है"।साहिह अल-बुखारी, हदीस- २०१०।

हमारा जवाब:

इस हदीस में जो बिद्दत का लफ़्ज़ इस्तमाल किया है उमर र.अ. ने ये लुग्वी मान'नो में है कि शराई बिद्दत। क्यूकी उमर र.अ. और अबू बक्र र.अ. के ख़िलाफ़त में जमात से नहीं पढ़ी जाती थी तरावीह। इसलिए उन्हें कहा कि ये अच्छी बिद्दत है मतलब ये अच्छा नया काम है जो हमें वक्त नहीं हो रहा था जब तक के उमर र.अ. ने इसका हुक्म न दे दिया। और अगर अब भी समझ में न आए तो ये सोचे कि क्या ये वाकाई शराई बिद्दत थी? ये शराई बिद्दत कैसी हो सकती है जब रसूलअल्लाह ने अपनी जिंदगी में जमात से तरावीह पढ़ी थी। ये रही अहादीस:

उर्वा बिन ज़ुबैर रदी अल्लाहु अन्हु से रिवायत है कि आयशा रदी अल्लाहु अन्हा ने फरमाया एक बार (रमजान की) आधी रात में रसूलल्लाह ﷺ मस्जिद में तशरीफ ले गए और वहां तरावीह की नमाज पढ़ी, सहाबा रदी अल्लाहु अन्हुमा भी आपके साथ नमाज़ में शामिल हो गएं, सुबह हुई तो उनहोंने उसका चर्चा किया फिर दूसरी रात में लोग पहले से भी ज्यादा शामिल हो गए, और आप के साथ नमाज़ पढ़ी। दूसरी सुबह को और ज़्यादा चर्चा हुई तो तीसरी रात उस्से  भी ज़्यादा लोग जमा हो गए, आप ﷺ ने (उस रात भी) नमाज पढ़ी और लोगो ने आपकी पैरवी की, छोटी रात को ये आलम था कि मस्जिद में नमाज पढ़ने आने वालों के लिए जगह भी बाकी नहीं रही (मगर उस रात आप नमाज के लिए बाहर ही नहीं आए) भारी सुबह नमाज के लिए तशरीफ लाए और जब नमाज पढ़ ली तो लोगों की तरफ मुतवज्जा हो कर शहादत के बाद फरमाया अम्मा बाद तुम्हारे यहां जामा शहद का मुझे इल्म था लेकिन मुझे इसका खौफ हुआ कि ये नमाज़ तुम पर फ़र्ज़ न हो जाए और फिर तुम उसे अदा न कर सको और आप ﷺ की वफ़ात के बाद भी यहीं कैफियत राही (लोग अलग-अलग तरावीह पढ़ते रहे)।

क्या हदीस से बिल्कुल वाज़ेह हो जाता है कि ये अमल बिद्दत नहीं था क्योंकि ये पहला ही रसूल अल्लाह अपनी जिंदगी में ये अमल कर चुके थे। बिद्दत नई बात को कहते हैं जो पहले से ही किया गया है उसको दोबारा करने को नहीं।

और वो एक और बात कहते हैं कि रसूलअल्लाह ने 3 दिन पढ़ा था लेकिन उमर र.अ. ने पूरा रमज़ान, तो इसलिए ये बिद्दत हुई। इसका जवाब ये है कि अगर रसूलल्लाह ने कोई अमल कर के छोड़ दिया और फिर उसे सहाबाओं ने किया तो सुन्नत को जिंदा करना कहते हैं बिद्दत करना नहीं। बिद्दत नई चीज़ को कहते हैं दीन में जिसका वुजूद न हो पहले। और उमर र.अ. ने कोई नई चीज नहीं करी थी अनहोन रसूलअल्लाह ﷺ की सुन्नत को जिंदा किया था। इसे ये भी पता चला कि अगर कोई मुर्दा सुन्नत जिंदा करता है और उसे अच्छी बिद्दत कहता है तो उसमें कोई हर्ज नहीं और ये उमर आर.ए. की सुन्नत होगी. पर जिस चीज़ का वुजूद ही न हो और उसे बिद्दत ए हसना कहे तो रसूलल्लाह ﷺ ने बिद्दत की किस्मत नहीं बताई उनको साफ अल्फ़ाज़ो में कहा है कि हर बिद्दत एक गुमराह है। अब अहले बिद्दत चाहे जितनी कोशिश करले 'हर बिद्दत' का मतलब 'हर बिद्दत' ही होगा बुरी बिद्दत या अच्छी बिद्दत नहीं। और हमें भी कोई एतराज नहीं होगा अगर कोई मुर्दा सुन्नत को जिंदा करे और उसे बिद्दत ए हसना नाम देकर उस पर अमल करने लगे। तो फ़िर ये वाज़ेह हो गया कि उमर र.अ. ने जो इसे बिद्दत ए हसाना कहा है वो एक मुर्दा सुन्नत को जिंदा कर के कहा है ना कि दीन में नया तारिका इजाद कर के।

अल्लाह से दुआ है कि वो हमें बिद्दत से महफूज रखे और सुन्नत पर अमल करने की तौफीक अता करे।

साहिह बुखारी, खंड ३, हदीस २०१२ ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

क़ुर्बानी की हैसियत ना रखने वालो के लिए क़ुर्बानी का सवाब

ro       en       ur - अबदुल्लाह बिन अमर रज़ीअल्लाह-तआला अन्हा से रिवायत है कि रसूलअल्लाह ﷺ ने एक व्यक्ति से फ़रमाया: “मुझे क़ुर्बानी के दिन को ईद मनाने का हुक्म हुआ है, अल्लाह ताला ने इस दिन को इस उम्मत के लिए ईद का दिन बनाया है, वो व्यक्ति बोला: अगर मेरे पास सिवाए एक दो उधार की बक्री के कुछ ना हो तो आपका क्या ख़्याल है? क्या में इस की क़ुर्बानी करूँ? आपने फ़रमाया: नहीं, बल्कि तुम (क़ुर्बानी के दिन) अपने कुछ बाल, नाख़ुन काटो, अपनी मूंछ तराशो और नाभि के नीचे के बाल काटो, तो ये अल्लाह ताला के नज़दीक तुम्हारी मुकम्मल क़ुर्बानी है |” निसाई, हदीस-४३७०, सहीह (शेख़ ज़ुबैर अली ज़ई) यानी जो लोग कुर्बानी का सवाब हासिल करना चाहते है लेकिन उनकी इस्तेताअत नही है तो वह लोग भी इस सवाब को हासिल कर सकते है, जुल हिज्जा का चांद देखने के बाद अपने बाल और नाखुन काटने से रुक जाए और ईद की नमाज पढ कर उनको काट लें तो उन्हें भी कुर्बानी का मुकम्मल सवाब मिलेगा  | •٠•●●•٠•

तयम्मुम करने का स्टेप बाय स्टेप तरीका

  ro    पानी ना मिलने की सूरत में (या दूसरे हालात जिसकी शरीयत ने इजाज़त दी हो) पाक मिट्टी को वुज़ू या ग़ुस्ल की नियत करके अपने हाथों और मुँह पर मलना तय्यमुम कहालता है। इसका तरीका ये है: 1. तयम्मुम की नियत करते हुए बिस्मिल्लाह कह कर अपने दोनों हाथ एक बार ज़मीन पर रखे। 2. फिर दाए हथेली का ऊपर वाला हिसा बाए हथेली पर फेर। 3. फिर से हथेलियाँ का ऊपर वाला हिस्सा दाएँ हथेलियाँ पर फेर। 4. फिर अपने दोनो हाथ चेहरे पर फेरे। आपकी तयम्मुम मुकम्मल हुई (इसके बाद वुज़ू के बाद पढ़ी जाने वाली दुआ पढ़ें।) •٠•●●•٠•

गुम्बद-ए-खिजरा - इसके अहकाम और इसको तबाह ना करने की वजह

ro    रसूलअल्लाह ﷺ के कब्र के ऊपर बनी हुई इमारत को गुम्बद-ए-खिजरा कहते हैं। ये गुंबद सातवीं (७वीं) सदी में बन गई थी। क्या गुम्बद को बादशाह अल-ज़ाहिर अल-मंसूर क़लावुन अल-सालिही ने ६७८ एएच में बनाया था। और सबसे पहले ये लकड़ी के रंग का था, फिर ये सफेद रंग का हुआ और फिर नीला और फिर ये सब्ज़ (हरा) रंग का हुआ और अब तक वो इसी रंग का है। ۞ गुम्बद के अहकाम है: उलेमा ए किराम माज़ी और जदीद डोनो मैं इस गुम्बद को बनाने में और इसको रंगने की टंकी (आलोचना) करता हूं। क्या सबकी वाजे यही है कि कहीं ये शिर्क के दरवाजे ना खोल दे। हाफ़िज़ अल-सनानी (रहीमुल्लाह) ता-थीर अल-एतिकाद में कहते हैं: "فإن قلت : هذا قبرُ الرسولِ صلى اللهُ عليه وسلم قد عُمرت عليه قبةٌ عظيمةٌ انفقت فيها الأموالُ . قلتُ : هذا جهلٌ عظيمٌ بحقيقةِ الحالِ ، فإن هذه القبةَ ليس بناؤها منهُ صلى اللهُ عليه وسلم ، ولا من أصحابهِ ، ولا من تابعيهم ، ولا من تابعِ التابعين ، ولا علماء الأمةِ وأئمة ملتهِ ، بل هذه القبةُ المعمولةُ على قبرهِ صلى اللهُ عليه وسلم من أبنيةِ بعضِ ملوكِ مصر المتأخرين ، وهو قلاوون الصالحي المعروف بالملكِ المنصورِ في سنةِ