सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एक कुर्बानी किसके लिए काफी हो सकती है?

ro   

अल्हम्दुलिल्लाह..

भेड़, बकरी और मेंढे की एक कुर्बानी आदमी और इसके पहले वा अयाल वगैरा के लिए काफी है।

इस्की दलेल मुंदरजा ज़ैल हदीस है;

आयशा आर.जेड. बयान करती है के नबी ﷺ ने दो काले पांव, काली आंखों वाले मेंढे कुर्बानी करने का हुक्म दिया, और नबी ﷺ ने इन्हें फरमाया, "ऐ आयशा चूड़ी लाना (मुझे चूड़ी पकड़ो) तू मैंने इन्हें चूरी दी इनहोन वो चूड़ी ली और मेंधा पकड़ कर लिटाया फिर इसे ज़बाह किया (ज़बाह करने की तैयारी करने लगे) और फरमाया 

بسم الله ، اللهم تقبل من محمد ، وآل محمد ، ومن أمة محمد ثم ضحى به’

बिस्मिल्लाहि अल्लाहुअकबर, ऐ अल्लाह मुहम्मद ﷺ और आले मुहम्मद और उम्मत ए मुहम्मद ﷺ की जानिब से कुबूल फरमा और फिर इसे जुबा कर दिया"

सहीह मुस्लिम: 1967.

अता बिन यासर रिवायत करते हैं कि मैंने अबू अय्यूब अंसारी र.अ. से पूछा कि रसूलअल्लाह के जमाने में कुर्बानी कैसे हुई थी? अन्होने फ़रमाया (के नबी ﷺ के दौर में) एक शख़्स अपना और अपने घर (परिवार) वालो की तरफ से एक बकरी की कुर्बानी देता था, वो खाते और खिलाते थे, यहाँ तक के लोग (ज़्यादा कुर्बानी पर) फ़क़र करने लगे और अब ये सूरत हाल हो गई है जो देख रहे हो (यानी लोग एक से ज्यादा कुर्बानी करने लगे)।

इसे इमाम तिर्मिज़ी ने रिवायत किया है और इमाम तिर्मिज़ी र.ह ने इसे हसन सही कहा है (हदीस संख्या: 1505, बलिदान की किताब।), और अल्लाम्मा अल्बानी र.ह ने सही सुनन तिर्मिज़ी में इसे सही क़रार दिया है, देखे सही सुनन तिर्मिज़ी, हदीस - 1216.

इमाम तिर्मिज़ी ने इस हदीस के बाद फरमाया है कि एक घर के तरफ से एक कुर्बानी होगी ये कव्वाल इमाम अहमद इब्न हम्बल और इमाम इशाक बिन राहवैह की भी है।

अबू सरीहा र.अ. रिवायत करते हैं, सुन्नत का तारिका मालूम हो जेन के बाद भी हमारे घरवालों ने हमें ज्यादा (ज्यादा कुर्बानी) पर मजबूर किया, (जब के रसूलल्लाह ﷺ के जमाने में) ये हाल था के एक घर वाले एक या दो बकरो की कुर्बानी करते थे . और अब (अगर हम एक करते हैं) तो हमारी पड़ोसन हमें कंजूस कहते हैं।

सुनन इब्न माजाह, वॉल्यूम। 4, पुस्तक 26, हदीस 3148। शेख जुबैर अली ज़ई द्वारा सहीह के रूप में वर्गीकृत।

नोट: क्या हदीस में रवी को शक है कि रसूलअल्लाह ﷺ के जमाने में एक या दो कुर्बानी हुआ करती थी लेकिन ऊपर की दूसरी हदीस से पता चलता है कि वो एक ही कुर्बानी हुआ करती थी रसूलअल्लाह ﷺ के जमाने में।


लिहाजा जब कोई शक्स भेद, बकरी या मेंधा जुबा करता है, तू वो एक ही इसके और इसके एहेल वा अयाल और अपने घर वालों के जानिब से वो नियत करे काफी है, और अगर वो कुछ भी नियत ना करे बलके इसे आम राखे या खास करदे तू इसके और इसके घर वालों में हर वो शख्स दखिल हो जाएगा जो अरफ या लोगहत के लिहाज़ से इन अल्फ़ाज़ में शामिल होता है।

अरफ में वो लोग घर वालों में शामिल होते हैं जिनकी वो अलत करता है यानी बीवीयां, औलाद और रिश्तेदार और लुघाट में हर करीब शामिल है इसकी औलाद और इसके वालिद की औलाद और बाप दादे की औलाद वगैरा।

और ऊंट या गाए का सातवा(7वां) हिसा इसे काफी है जिसके लिए एक बकरा वगैरा काफी होता है, अगर किसी ने अपने और अपने घर वालों की जानिब से ऊंट या गए का सातवा(7वां) इसका कुर्बानी किया तू ये सब की जानिब से काफ़ी होगा इस्लिये के नबी ﷺ ने हदी (यानी हज की कुर्बानी) में गाये और ऊंट का सातवा हिसा एक बकरी वगैरा के क़याम मुकाम किया है, तू इस तरह कुर्बानी में भी काफी होगा क्योंकि इसमे हज और आम कुर्बानी में कोई फर्क नहीं .

एक बकरी, मेंधा वागैरा दो शख्सो या ज्यादा के लिए काफी नहीं के वो डोनो इसे खत्म कर कुर्बानी करे और इसमें शरीक होजाए, क्योंकि इसका किताब वा सुन्नत में कोई वजूद नहीं मिलता।

और इस तरह की ऊंट और गाए में अनंत अश्क शरीक नहीं हो सकते। इस्ली के इबादत तौकीफी होती है (यानी इसमें कोई भी कमी व बेशी नहीं की जा सकती) इसकी कैफियत और कमियात मेहदुदा में कोई कामी व बेशी नहीं हो सकती, ये सवाब में शिरकत के अलावा है, क्यूंके सवाब में बिला हसर शिरकत की नस मिलती है जैसा के बयान भी हो चुका है।

वल्लाहु आलम.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

क़ुर्बानी की हैसियत ना रखने वालो के लिए क़ुर्बानी का सवाब

ro       en       ur - अबदुल्लाह बिन अमर रज़ीअल्लाह-तआला अन्हा से रिवायत है कि रसूलअल्लाह ﷺ ने एक व्यक्ति से फ़रमाया: “मुझे क़ुर्बानी के दिन को ईद मनाने का हुक्म हुआ है, अल्लाह ताला ने इस दिन को इस उम्मत के लिए ईद का दिन बनाया है, वो व्यक्ति बोला: अगर मेरे पास सिवाए एक दो उधार की बक्री के कुछ ना हो तो आपका क्या ख़्याल है? क्या में इस की क़ुर्बानी करूँ? आपने फ़रमाया: नहीं, बल्कि तुम (क़ुर्बानी के दिन) अपने कुछ बाल, नाख़ुन काटो, अपनी मूंछ तराशो और नाभि के नीचे के बाल काटो, तो ये अल्लाह ताला के नज़दीक तुम्हारी मुकम्मल क़ुर्बानी है |” निसाई, हदीस-४३७०, सहीह (शेख़ ज़ुबैर अली ज़ई) यानी जो लोग कुर्बानी का सवाब हासिल करना चाहते है लेकिन उनकी इस्तेताअत नही है तो वह लोग भी इस सवाब को हासिल कर सकते है, जुल हिज्जा का चांद देखने के बाद अपने बाल और नाखुन काटने से रुक जाए और ईद की नमाज पढ कर उनको काट लें तो उन्हें भी कुर्बानी का मुकम्मल सवाब मिलेगा  | •٠•●●•٠•

तयम्मुम करने का स्टेप बाय स्टेप तरीका

  ro    पानी ना मिलने की सूरत में (या दूसरे हालात जिसकी शरीयत ने इजाज़त दी हो) पाक मिट्टी को वुज़ू या ग़ुस्ल की नियत करके अपने हाथों और मुँह पर मलना तय्यमुम कहालता है। इसका तरीका ये है: 1. तयम्मुम की नियत करते हुए बिस्मिल्लाह कह कर अपने दोनों हाथ एक बार ज़मीन पर रखे। 2. फिर दाए हथेली का ऊपर वाला हिसा बाए हथेली पर फेर। 3. फिर से हथेलियाँ का ऊपर वाला हिस्सा दाएँ हथेलियाँ पर फेर। 4. फिर अपने दोनो हाथ चेहरे पर फेरे। आपकी तयम्मुम मुकम्मल हुई (इसके बाद वुज़ू के बाद पढ़ी जाने वाली दुआ पढ़ें।) •٠•●●•٠•

गुम्बद-ए-खिजरा - इसके अहकाम और इसको तबाह ना करने की वजह

ro    रसूलअल्लाह ﷺ के कब्र के ऊपर बनी हुई इमारत को गुम्बद-ए-खिजरा कहते हैं। ये गुंबद सातवीं (७वीं) सदी में बन गई थी। क्या गुम्बद को बादशाह अल-ज़ाहिर अल-मंसूर क़लावुन अल-सालिही ने ६७८ एएच में बनाया था। और सबसे पहले ये लकड़ी के रंग का था, फिर ये सफेद रंग का हुआ और फिर नीला और फिर ये सब्ज़ (हरा) रंग का हुआ और अब तक वो इसी रंग का है। ۞ गुम्बद के अहकाम है: उलेमा ए किराम माज़ी और जदीद डोनो मैं इस गुम्बद को बनाने में और इसको रंगने की टंकी (आलोचना) करता हूं। क्या सबकी वाजे यही है कि कहीं ये शिर्क के दरवाजे ना खोल दे। हाफ़िज़ अल-सनानी (रहीमुल्लाह) ता-थीर अल-एतिकाद में कहते हैं: "فإن قلت : هذا قبرُ الرسولِ صلى اللهُ عليه وسلم قد عُمرت عليه قبةٌ عظيمةٌ انفقت فيها الأموالُ . قلتُ : هذا جهلٌ عظيمٌ بحقيقةِ الحالِ ، فإن هذه القبةَ ليس بناؤها منهُ صلى اللهُ عليه وسلم ، ولا من أصحابهِ ، ولا من تابعيهم ، ولا من تابعِ التابعين ، ولا علماء الأمةِ وأئمة ملتهِ ، بل هذه القبةُ المعمولةُ على قبرهِ صلى اللهُ عليه وسلم من أبنيةِ بعضِ ملوكِ مصر المتأخرين ، وهو قلاوون الصالحي المعروف بالملكِ المنصورِ في سنةِ