सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हुज़ूर ﷺ के वफ़ात का वक़्त का बयान

ro   


हुज़ूर ﷺ के वफ़ात का वक़्त:

हज़रत:- उमर फारूक र.अ.:– वफ़ात की ख़बर सुन केर इनके होश जाते रहे और वो खरे हो केर कहने लगे “कुछ मुनाफ़ेक़ीन समझते हैं रसूलुल्लाह सल्लाहो अलिहे वसल्लम की वफ़ात हो गई लेकिन हकीकत ये है के रसूलुल्लाह ﷺ की वफ़ात नहीं हुई, बलके आप अपने रब के पास तशरीफ ले गये हैं।

जिस तरह मूसा बिन इमरान अली सलाम तशरीफ़ ले गए थे और अपनी क़ौम से ४० रात गायब रह केर उनके पास फिर वापसी आ गए थे, हलाके वापसी से पहले कहा जार आहा था के वो इंतकाल कर गए हैं।”

खुदा की कसम रसूलुल्लाह भी पलट कर आएंगे और उन लोगों के हाथ पाओ काट डालेंगे जो समझते हैं कि आप सल्लाहो अलिहे व सल्लम की मौत हो चुकी है।

हज़रत अबू बक्र र.अ. :- मेरे मां बाप आप पर कुर्बान, अल्लाह आप पर २ मौत जमा नहीं करेगा, जो मौत आप पर लिख दी गई है वह आप को आचुकी।

हमारे बाद अबू बक्र बहार तशरीफ़ लाए हमें वक़्त भी हज़रत उमर र.अ. लोगो से बात केर रहे थे, हज़रत अबू बक्र ने उन से कहा उमर बैठ जाओ, हज़रत उमर र.अ. ने बैठने से इंकार कर दिया। सहाबा हज़रत उमर को चोर केर हज़रत अबू बक्र की तरफ मुतवज्जा हो गए। हज़रत अबू बक्र ने फ़रमाया।

अम्मा बाद'' तुम मुझसे जो शख़्स मुहम्मद सवस की इबादत (पूजा) करता था वो जान ले के मुहम्मद सवस की मौत वाकी हो चुकी है। और तुम मुझसे जो शख़्स अल्लाह की इबादत करते थे तो यकीनन अल्लाह हमेंशा जिंदा रहने वाला है, कभी नहीं मारेगा।

फ़िर अनहोने ये आयत परही। सूरह इमरान {३ :१४४ }

“मुहम्मद नहीं है मगर रसूल ही, पहले भी बहुत से रसूल गुजर चुके हैं। तो क्या अगर वो मर जाए या उसकी मौत हो जाए या क़त्ल केर दिए जाए तो तुम लोग क्या ऐरी के बाल पलट जाओगे?

और जो शख्स अपने ऐरी के बाल पलट जाए तो याद रखे के वो अल्लाह का कुछ नुक्सान नहीं पा सकता। और अनकारीब अल्लाह शुक्र करने वालो को जजा देगा। उसके बाद हज़रत उमर ने फ़रमाया माई ने जो हाय अबू बकर को तेलावत करते हुए सुनी इंतहाई मुतहहिर और दहशत ज़दा हो केर रह गया। हट्टा के मेरे पाओ मुझे उठा ही नहीं रहे थे और हट्टा के अबू बक्र को उस आयत की तलावात करते हुए सुन केर माई ज़मीन पर गिर पारा.क्योके माई जान गया वाकाई नबी स्व्स को मौत आ चुकी है।

{इब्ने हिशाम = २ /६५५ } {बुखारी- ३६६७, ३६६८ }

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

क़ुर्बानी की हैसियत ना रखने वालो के लिए क़ुर्बानी का सवाब

ro       en       ur - अबदुल्लाह बिन अमर रज़ीअल्लाह-तआला अन्हा से रिवायत है कि रसूलअल्लाह ﷺ ने एक व्यक्ति से फ़रमाया: “मुझे क़ुर्बानी के दिन को ईद मनाने का हुक्म हुआ है, अल्लाह ताला ने इस दिन को इस उम्मत के लिए ईद का दिन बनाया है, वो व्यक्ति बोला: अगर मेरे पास सिवाए एक दो उधार की बक्री के कुछ ना हो तो आपका क्या ख़्याल है? क्या में इस की क़ुर्बानी करूँ? आपने फ़रमाया: नहीं, बल्कि तुम (क़ुर्बानी के दिन) अपने कुछ बाल, नाख़ुन काटो, अपनी मूंछ तराशो और नाभि के नीचे के बाल काटो, तो ये अल्लाह ताला के नज़दीक तुम्हारी मुकम्मल क़ुर्बानी है |” निसाई, हदीस-४३७०, सहीह (शेख़ ज़ुबैर अली ज़ई) यानी जो लोग कुर्बानी का सवाब हासिल करना चाहते है लेकिन उनकी इस्तेताअत नही है तो वह लोग भी इस सवाब को हासिल कर सकते है, जुल हिज्जा का चांद देखने के बाद अपने बाल और नाखुन काटने से रुक जाए और ईद की नमाज पढ कर उनको काट लें तो उन्हें भी कुर्बानी का मुकम्मल सवाब मिलेगा  | •٠•●●•٠•

तयम्मुम करने का स्टेप बाय स्टेप तरीका

  ro    पानी ना मिलने की सूरत में (या दूसरे हालात जिसकी शरीयत ने इजाज़त दी हो) पाक मिट्टी को वुज़ू या ग़ुस्ल की नियत करके अपने हाथों और मुँह पर मलना तय्यमुम कहालता है। इसका तरीका ये है: 1. तयम्मुम की नियत करते हुए बिस्मिल्लाह कह कर अपने दोनों हाथ एक बार ज़मीन पर रखे। 2. फिर दाए हथेली का ऊपर वाला हिसा बाए हथेली पर फेर। 3. फिर से हथेलियाँ का ऊपर वाला हिस्सा दाएँ हथेलियाँ पर फेर। 4. फिर अपने दोनो हाथ चेहरे पर फेरे। आपकी तयम्मुम मुकम्मल हुई (इसके बाद वुज़ू के बाद पढ़ी जाने वाली दुआ पढ़ें।) •٠•●●•٠•

गुम्बद-ए-खिजरा - इसके अहकाम और इसको तबाह ना करने की वजह

ro    रसूलअल्लाह ﷺ के कब्र के ऊपर बनी हुई इमारत को गुम्बद-ए-खिजरा कहते हैं। ये गुंबद सातवीं (७वीं) सदी में बन गई थी। क्या गुम्बद को बादशाह अल-ज़ाहिर अल-मंसूर क़लावुन अल-सालिही ने ६७८ एएच में बनाया था। और सबसे पहले ये लकड़ी के रंग का था, फिर ये सफेद रंग का हुआ और फिर नीला और फिर ये सब्ज़ (हरा) रंग का हुआ और अब तक वो इसी रंग का है। ۞ गुम्बद के अहकाम है: उलेमा ए किराम माज़ी और जदीद डोनो मैं इस गुम्बद को बनाने में और इसको रंगने की टंकी (आलोचना) करता हूं। क्या सबकी वाजे यही है कि कहीं ये शिर्क के दरवाजे ना खोल दे। हाफ़िज़ अल-सनानी (रहीमुल्लाह) ता-थीर अल-एतिकाद में कहते हैं: "فإن قلت : هذا قبرُ الرسولِ صلى اللهُ عليه وسلم قد عُمرت عليه قبةٌ عظيمةٌ انفقت فيها الأموالُ . قلتُ : هذا جهلٌ عظيمٌ بحقيقةِ الحالِ ، فإن هذه القبةَ ليس بناؤها منهُ صلى اللهُ عليه وسلم ، ولا من أصحابهِ ، ولا من تابعيهم ، ولا من تابعِ التابعين ، ولا علماء الأمةِ وأئمة ملتهِ ، بل هذه القبةُ المعمولةُ على قبرهِ صلى اللهُ عليه وسلم من أبنيةِ بعضِ ملوكِ مصر المتأخرين ، وهو قلاوون الصالحي المعروف بالملكِ المنصورِ في سنةِ